Get DO Help

आनंदपाल एनकाउंटर के हीरो विद्या सागर की गैर मौजूदगी से रिक्रिएशन पर उठे सवाल


About Anand Pal Encounter

आनंदपाल एनकाउंटर के हीरो विद्या सागर की गैर मौजूदगी से रिक्रिएशन पर उठे सवाल

Image result for anand pal singh encounter

 

जयपुर। आनंदपाल एनकाउंटर को लेकर सीबीआई की जांच एनकाउंटर के रिक्रिएशन के साथ लगभग पूरी हो गई। सीबीआई ने मंगलवार को चूरू के मालासर में उस मकान में जहां पर आनंदपाल का एनकाउंटर हुआ था। पूरे एनकाउंटर का रिक्रिएशन किया। एनकाउंटर के रिक्रिएशन के दौरान 57 पुलिसकर्मी मालासर में मौजूद रहे। खास बात ये है कि एनकाउंटर के हीरो कहलाए जाने वाले RPS विद्या प्रकाश इस दौरान मौजूद नहीं थे। ये बड़ी चर्चा का विषय बना रहा।
 
चूरू के मालासर में आनंदपाल एनकाउंटर के रिक्रिएशन को सात फेज में पूरा किया गया। एनकाउंटर के रिक्रिएशन के दौरान 57 पुलिसकर्मी मालासर में मौजूद रहे।  जिसमें राजस्थान पुलिस, राजस्थान एसओजी और हरियाणा पुलिस के जवान और अधिकारी शामिल हुए। पुलिस अधिकारियों और जवानों ने उसी पोजीशन पर अपनी जगह ली। जहां पर एनकाउंटर वाली रात में उन्होंने मोर्चा संभाला था। रिक्रिएशन की प्रक्रिया पूरी होने पर सीबीआई के अधिकारियों ने मौके से साक्ष्य इकट्ठे किए और पुलिस के अधिकारियों से कुछ बिंदुओं पर पूछताछ व जानकारी लेने के बाद रिक्रिएशन की प्रक्रिया पूरी होने की घोषणा की।  जिसके बाद वहां से सभी लोगों को हटा दिया गया और मकान को दोबारा सीज कर दिया गया।
 
 
एनकाउंटर के हीरो विद्या प्रकाश रहे नदारद
सीबीआई की ओर से जब मालासर में आनंदपाल एनकाउंटर का रिक्रिएशन किया गया तो उस वक्त जो चीज वहां पर सबसे ज्यादा नोटिस करने वाली रही। वो थी एनकाउंटर के हीरो कहलाए जाने वाले RPS विद्या प्रकाश की गैर मौजूदगी। सीबीआई द्वारा जब एनकाउंटर का रिक्रिएशन करवाया गया तो उस वक्त वहां पर वह तमाम पुलिस अधिकारी और पुलिस कर्मी मौजूद थे। जो एनकाउंटर का हिस्सा रहे लेकिन विद्या प्रकाश ने एनकाउंटर के रिक्रिएशन में भाग नहीं लिया जो कि सबके बीच में एक बड़ी चर्चा का विषय रहा। विद्या प्रकाश को सोमवार रात को ही एपीओ किया गया है। एनकाउंटर रिक्रिएशन से ठीक 12 घंटे पहले RPS विद्या प्रकाश को APO किया जाना किसी के भी गले से नीचे नहीं उतर रहा है। साथ ही एनकाउंटर रिक्रिएशन के दौरान विद्या प्रकाश की गैर मौजूदगी भी कई सवाल खड़े करती है। 
 
 
अब सीबीआई के पाले में आनंदपाल एनकाउंटर की गेंद
आनंदपाल एनकाउंटर की जांच एनकाउंटर की रिक्रिएशन के साथ लगभग पूरी हो गई। एनकाउंटर से जुड़े तमाम राजों को सीबीआई टीम समेट कर अपने साथ ले गई। अब सीबीआई इस पूरे प्रकरण की फाइनल रिपोर्ट बनाकर पेश करेगी। जिसमें यह साफ हो जाएगा कि एनकाउंटर वास्तव में हुआ था या फिर फर्जी तरीके से एनकाउंटर किया गया था। कुल मिलाकर अब इस पूरे प्रकरण की गेंद CBI के पाले में है, देखने की बात होगी की CBI इस प्रकरण में क्या नया खुलासा करती है।
 
 
राजपूत समाज ने की थी सीबीआई जांच की मांग
आपको बता दें कि आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद राजपूत समाज द्वारा सरकार से इस पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच की मांग की गई थी और काफी सोच विचार के बाद सरकार ने इस पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच कराने का निर्णय लिया था। 

Recent Comments

Leave Comments

Top